Sunday, December 28, 2008

जाने कौन है वो!!

दिल में एक तस्वीर सी बनी है,
रब जाने कौन है वो !
मदभरी खुशबू-सी है आती,
जब जहन में है आते वो !
अरे! ये कैसी तरंग है फ़िज़ाओं में,
सिर्फ उन्हीं का अह्सास होता है !
दिल जान से हैं चाहते उन्हें हम फिर भी,
ना जाने क्यों वो हमें तड़पाता है ! ! !

@ Dins'

9 comments:

  1. You can write more better
    भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
    कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
    मेरे द्वारा संपादित पत्रिका देखें
    www.zindagilive08.blogspot.com
    आर्ट के लि‌ए देखें
    www.chitrasansar.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. स्वागत है आपका लिखते रहें।

    ReplyDelete
  3. **VERY GOOD






    PLEASE VISIT MY BLOG...........
    "HEY PRABHU YEH TERAPANTH "

    ReplyDelete
  4. विनय भाई
    सुंदर शुरुआत, गीतों की अच्छी शुरुआत

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब. स्वागत ब्लॉग परिवार और मेरे ब्लॉग पर भी.

    ReplyDelete
  6. नव वर्ष २००९ मंगलमय हो
    आपका साहित्य सृजन खूब पल्लिवित हो
    प्रदीप मानोरिया
    09425132060

    ReplyDelete
  7. सच कहा है
    बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
    कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .(हटाने के लिये देखे http://www.manojsoni.co.nr )
    कृपया मेरा भी ब्लाग देखे और टिप्पणी दे
    http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद् मित्रों, आपकी सराहनाओं से मेरे हौसले को एक बल सा मिल गया है.....!

    मेरी यही कोशिश होगी की मैं अपनी भावनाओं को आप लोगों तक पहुंचता रहूँ...!

    @ Dins'

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर...आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है.....आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे .....हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete